Monday, 24 April 2017

पुरूष की ताकत और../Male power and..


पुरूष की ताकत और...

foto - Curtesy by http://www.newstracklive.com

तुम पुरूष की ताकत कितनी ही बार
हम महिला के लिए वरदान साबित होता है
अपनी कितनी सारी कमजोरियाँ
तुम्हारे इस ताकत की आड़ में हम छुपाकर खुश हो जाते हैं

मैं जब भी काम करते-करते थक जाती हूं व गुस्सा आता है मुझे
यह आरोप तुम पर मढ कर खुश हो जाती हूं
कि अपनी ताकत के बल पर तुम हमसे अधिक काम करवा रहे हो

बाहरी काम करने का मन नहीं हो तो भी आसान है ये बहाना..
हाय, मैं महिला हूं न व अबला भी
कोई ताकतवर पुरुष छेड़ देगा तो ..प्लीज मुझे बाहर न भेजो
(यानी बाहर का काम तुम खुद करो)

अगर कमाई करके घर में नहीं लाना हो
या गृहणी ही बने रहना हो
तो भी यह बहाना बहुत कारगर सिद्ध होता है हम महिला के लिए

अगर कमाई करुं भी मगर तुम पुरुष से कम कर पाऊं
तो भी अपनी कमी छुपाने के लिए यह कहना हमारे लिए मुश्किल नहीं..
कितनी कमाई करूं..घर भी सम्हालना, बच्चे भी ..
फिर अधिक कमाई के लिए पुरुष मालिक की अनचाही मांग
पूरी करनी जरूरी ...मैं ‘वो’ तो नहीं देती न..
ये ऐसा जवाब कि पुरुष महाशय चुप हो जाय
व हम महिला अपना नारीत्व दर्शाकर खुश हो सकते हैं बिना अफसोस किए

हां अच्छा ही है तुम्हारे मन में नारी के लिए अधिक इच्छा शाक्ति भी
तुम अपनी इच्छा से मजबूर हो मुझे अपनी बाहों में कसते हो
व मैं ऊपर से मुड नहीं होने का मंशा दर्शाती हूं
तुम खूब मेहनत करते हो और मैं मजा लेती हूं
खुशी इस बात की भी होती है कि तुम्हारा विशाल व्यक्तित्व
मेरे में समाकर संतुष्ट महसूस करता है
मगर मैं तुमसे जुड़कर अपने को विशाल महसूस करती हूं

सच, तुम्हारा प्रणय निवेदन व वो पल मेरे लिए गौरव पैदा करता है
क्योंकि मुझसे ताकतवर होकर भी तुम मेरे पास आते हो तो झुके तुम
मैं नहीं झुकी क्योंकि अपने से ताकतवर के पास समर्पण झुकना नहीं होता
ताकतवर का अपने से कमजोर के पास आना झुकना होता है

ऊपर से मेरा जलबा देखो
कोई बोले कि अधिक देर प्यार-सेक्स में समय न बिताया जाय..
मैं झट से कह देती हूं..मेरी कहाँ मरजी होती है..उन्होंने ही मजबूर किया..
मैं तो उनकी बस दासी हूं

हां मजा इसमें भी खूब आता है
जब तुम्हें मालिक कह कर अपने इशारों पर चलाती हूं
और तो और
जरा सा कभी डांटते हो या मेरे मन से नहीं चलते हो तो
हमारी आंखों से तो गंगा-यमुना बहने लगती हैं
व परिवार, बच्चे व समाज की भी सहानुभूति
स्वतः हमारे तरफ हो जाती है

वैसे तुम पुरूष की ताकत से जुड़े और भी फायदे होंगे हम महिला के लिए
करूंगी खोज और
व लाभ उठाना चाहती हूं तुम्हारा और भी ज्यादा..

-कुलीना कुमारी, 24-4-2016

No comments:

Post a Comment

Search here...

Follow by Email

Contact Us

Name

Email *

Message *