Thursday, 20 October 2016

शेयर





प्रतिकात्मक चित्र

पुरुष तो शुरु से विकसित मगर जागृति की लहर महिलाओं को खूब प्रभावित किया है और वह बदल रही है पल-पल। मगर वहां यह बदलाव अधिक तेज जहां महिला आर्थिक निर्भर। स्वभाविक है, जब पति के टुकड़ों पर पलने की आदत न रहीं तो बेवजह पुरुष की झिरकी व जुल्म सहना भी बंद। ‘जैसे को तैसा’ की प्रतिक्रिया सर्वोपरि।

प्रेरणा के घर में यह परिवर्तन दिखने लगी थीं क्योंकि वह पढी-लिखी थी व अपने अधिकारों के प्रति सजग भी। शादी से पहले भी वह अपने मां-बाप की लाड़ली थी व उन्होंने लड़की होने के बाद भी उसे पूर्ण सम्मान दिया था। फलस्वरूप वह शादी के बाद भी खुद को कमजोर नहीं समझी और मायके से आयी सजगता उसके व्यवहार का हिस्सा बन गया। यद्यपि शुरु-शुरु में उसके इस स्वभाव का ससुराल के लोगों ने काफी विरोध किया, उसे लोगों की नाराजगी का सामना भी करना पड़ा मगर वह खुद को बदल नहीं पायी।

समानता की सोच, स्वतन्त्र अभिव्यक्ति व आत्मविश्वास उसका गहना था, इसीलिए अन्य पत्नियों के तरह वह शुरु से ही पति की हां में हां नहीं मिलाती थी और करीब-करीब हर बिन्दु पर वह अपना विचार प्रकट करती थी। पति ही नहीं, किसी के भी सही बातों का समर्थन मगर गलत लगने पर विरोध उसके स्वभाव में शामिल हो गया था। यद्यपि अंदर से उसका पति भी यहीं चाहता था कि उसकी पत्नी की भी अपनी हैसियत व पहचान हो मगर पुरूषवादी कुवृत्ति आसानी से कहां जाती। वह व्यवहार में अपने सामने बीवी को कुछ समझता नहीं था व उसके मनमुताविक नहीं होने पर वह चिल्ला उठता और अच्छी बातों के लिए खुद को श्रेय मगर बुरी घटना के लिए पत्नी को जिम्मेदार बना देता था। रोज-रोज की उसकी इस आदत से तंग आकर प्रेरणा ने भी उसे जवाब देना व विरोध करना शुरू कर दिया था।

कुछ दिनों से उसका पति हिम्मत उसके जवाब देने की आदत को मुद्दा बना दारू पीकर आने लगा था। इसके बाद जरा-जरा-सी बात पर चिल्लाना व सेक्स के लिए मजबूर करना उसके आदत में शामिल होने लगा था। कभी-कभार तो ठीक मगर आदत, प्रेरणा को असह्य होने लगा और दारू की वह विरोध करने लगी। पति को ठीक करने के उद्देश्य से रात को दारू अवस्था में प्रेरणा ने अब साथ देने से मना कर दिया। हिम्मत ने बहुत कोशिश की मगर बच्चे के कमरे से वह अपने बेडरूम में सोने आई नहीं । अगले दिन दोनों पति-पत्नी साथ काम से निकले और काम खतम होने पर मेट्रो तक भी साथ आए मगर जब मेट्रो में चढने की बारी आई तो हिम्मत ने प्रेरणा को बताया, ‘तुम घर जाओ, मैं ‘उसके पास’ से होते हुए आऊंगा।

‘किसके पास’

इस पर उसके पति ने अपने दारूबाज दोस्त का नाम बताते हुए कहा,  ‘मैं किसी के पास तो खुद को शेयर करूंगा, तुम तो मेरे साथ सोती नहीं मगर मुंह लगाती रहती हो।’

प्रेरणा ने इस पर बार-बार निवेदन किया कि मत जाइए वहां, शाम हो चुकी है, घर चलते हैं मगर वह अड़ा रहा। इस पर प्रेरणा को गुस्सा आ गया और वह बोल उठी, ‘जाइए आप, आपके गलत बातों का जवाब देती हूं तो वह बुरा मगर आप जो मेरे साथ दुर्व्यवहार करते हैं तो उसका क्या! मुझे भी तो कोई ऐसा चाहिए आपके तरह जहां मैं खुद को शेयर कर सकूं। और हां, मैं चाहू तो आपसे अधिक ही मेरे साथ शेयर करने वाले मिल जाएंगे ।
जाइए-जाइए, मैं भी अपने किसी मित्र को बुला लेती हूं और आज उसको शेयर करने दूंगी। जैसे आपका दुख सुनने वाला कोई चाहिए, उससे मैं भी अपना दुखड़ा सुना दूंगी। आपका दोस्त दारू शेयर करता है, कोई मेरे साथ मेरा शरीर शेयर करना चाहेगा तो चलेगा। शेयरिंग में क्या सोचना!
आप अपने दारुबाज दोस्त के साथ शेयर कीजिए, मैं अपने किसी चाहने वाले के साथ शेयर कर लूंगी। दारू से मन भर जाय आपका तो आ जाइएगा, मुझे भी उसके ‘उससे’ मन भर जाएगा तो आ जाऊंगी।’

यह सुनकर उसका पति हिम्मत हंसा जैसे उसको मजाक लगा, फिर बोला, ‘तुम किसको बुलाओगी, बताओ तो जरा।’

‘रणवीर को, कब से वह मेरे साथ एकांत शेयर करना चाहता है, आज मैं भी अपना दुखड़ा शेयर कर दूंगी, बदले में कुछ भी चलेगा और यह कहकर वह मेट्रो के तरफ चली गई, बिना पति की प्रतिक्रिया जाने।’

प्रेरणा तो यह कहकर चली गयी मगर उसका पति को जैसे होश आ गया क्योंकि रणवीर को उसका पति भी जानता था, जिसे प्रेरणा ने ही उसे उससे मिलवायी थी। रणवीर प्रेरणा का दोस्त था और प्रेरणा के लिए उसका बार-बार फोन आना उसे पता था। अब हिम्मत को विश्वास हो गया कि प्रेरणा झूठ नहीं बोल रही होगी..कहीं सचमुच तो नहीं वह उसके पास चली जाएगी...ऐसे दारू का साथ लेकर क्या करना अगर पत्नी ही गोल हो जाए। उसने दारूबाज दोस्त के पास जाने का इरादा बदला और बीवी को फोन लगाया, ‘‘ तुम क्यू में खड़ी ही रहना, मैं पीछे से आ रहा हूं।’’

उसकी पत्नी फोन सुन खिलखिलाई और इंतजार करने लगी। सोचने लगी, ‘यहीं तो चाहती थी, पति का साथ, दारू भरा गुस्सा नहीं, प्यार भरा उमंग का साथ...।

-कुलीना कुमारी, 20-10-2016


No comments:

Post a Comment

Search here...

Follow by Email

Contact Us

Name

Email *

Message *