Thursday, 13 October 2016

जिंदगी का सफर, Life Partner





अपनी जिंदगी का सफर कर लूं मैं पार
बस तू साथ मेरे चलता रहे मेरे हमसफर

कांटों से भी हम ना डरेंगे
बस तू हाथ मेरा थामे रखे मेरे दिलवर

तू हंसता है तो
जिंदगी मेरी हंसने लगे हैं
तुम्हें देखकर ही
दिल मेरा चलने लगे हैं
मेरे मन की बगिया तेरे प्यार से सजी है
ये महकती रहे अगर तू प्यार करता रहे मेरे दिलवर..

मैं बेचैन तभी होती हूं
जब तू हमसे रूठ जाए
जिंदगी से ही रूठ जाने का जी करता है
जब तू अपने दिल से निकालने लग जाए
तेरे इशारों पे चलती है खुशियां हमारी
मेरी मुस्कान सजती रहे
अगर तू मेरे संग हंसता रहे मेरे दिलवर...

हमारा दिल ही ऐसा बना है
ये दिलवर के बगैर खुश रहने से इंकार करे हैं
ये कहता है उसके बाजुओं में आनंद
उसी संग सबसे सुंदर एहसास भरे हैं
मुझे धरती पे ही स्वर्ग मिल जाए
अगर अपना अमृत तू हमको पिलाता रहे मेरे दिलवर...

-कुलीना कुमारी, 5/5/2015

No comments:

Post a Comment

Search here...

Follow by Email

Contact Us

Name

Email *

Message *