Thursday, 13 October 2016

एक स्त्री को क्या चाहिए, Woman Desires



एक स्त्री को क्या चाहिए
खाने को अन्न
पहनने को वस्त्र
सर पर छत
मगर इतना ही तो काफी नहीं
परिवार का साथ भी तो जरूरी

कैसा परिवार का साथ
कहने को पति या साथी हो एक ही छत के नीचे
मगर सामंजस्य ना हो
तो क्या स्त्री खुश रह सकती है
नहीं, हर्गिज नहीं
मनुष्य जीवन की उम्मीद और उत्साह
अपनों द्वारा जताए प्रेम
और अपनापन में ढूंढता है

हां कितनी ही बार अपने मन में झांक कर देखा है
कितनी ही महिलाओं के जीवन
व दर्द गाथा को सुन कर पाया है
वह सबसे खुश तब होती है
जब उसे ये एहसास होता है
कि कोई उसको चाहता है
उसके सोच को, उसके जिस्म को
उसके हर रूप को

हां उसे नेचर द्वारा गढे अपने शरीर पर तब गर्व होता है
जब उसे विश्वास होता है
कि किसी को उसकी जरूरत है
कोई उसका इंतजार करता है

मगर यह भी पूरा सच नहीं
वह खुलना चाहती है
अपने उस पति, प्रेमी या मरद से
जो उसे सुनना पसंद करता है
उसके लिए भेंट और अपनी क्षमता के अनुरूप
उसे खुश करना जानता है

स्त्री ही क्यों, शायद हर मनुष्य की ये जरूरत है
पेट की भूख और जिस्म की भूख
जब दोनों ही चीजें
व्यक्ति को प्रेम और अधिकार के साथ मिलता रहे
तो जीवन की सार्थकता लगती है
एक भी चीज की कमी
जीवन की अपूर्णता को जन्म देती है
कितनी ही बीमारियों का कारण यह
धीरे-धीरे मनुष्य टूटने लगता है
और फिर बढ़ने लगता है मौत या अंधकार की ओर...

-कुलीना कुमारी, 16-10-15




No comments:

Post a Comment

Search here...

Follow by Email

Contact Us

Name

Email *

Message *