Thursday, 10 November 2016

तो बताती..,Desire



एक अठारह-बीस साल का लड़का हमसे पूछा
आप लड़कों से क्या चाहती हो..
जो उनको फंसाने हेतु प्रेम वाली इतनी रचना लिखती हो
वह हमसे बहुत छोटा था, इसीलिए उसे डपट दिया

मगर यही प्रश्न अगर मेरा समवयस्क मर्द
या मन भावन साथी पूछता तो बताती..
एक मर्द से महिला वो सब चाहती हैं, जो उसके पास नहीं
जैसे उसके जैसा चतुर स्वभाव का राज
कि कैसे वह दूसरों को बरगलाकर अपना काम निकाल लेता है
या फिर इतना तेज कैसे रह पाता है कि दूसरा उसे ठग नहीं पाता

हां उसके जैसा मिहनत का जज्बा भी थोड़ा उनसे मांग लेती
कि कैसे भी हम भी अपना भरण-पोषण कर सके
और किसी पे बोझ ना रहे
क्योंकि मर्द प्रायः किसी पे आर्थिक रूप से मोहताज नहीं होता

हां विशेष पुरूष के हांेठों पर खिलने वाली मुस्कुराहट
और आंखों की ज्योत से कुछ रौशनी मांग लेना चाहती हूं
ताकि विकट परिस्थिति में हम भी घबराए नहीं
हंसते रहे और अपने जिंदगी के प्रति रहे निश्चिंत सी

वैसे अपने रूप और यौवन से उन्हें प्रभावित कर
उनके बहुत से पैसों या ताकत में से
अपनी जरूरत के लिए भी कुछ उनसे मांग लेना चाहती
अगर मुफ्त में उन पे कुर्बान हो तो नारी की सुंदरता का
फिर मतलब ही क्या है
और हां, उनके पैसे या ताकत खर्च नहीं होंगे तो
फिर वो कमाएंगे या अरजेंगे कैसे और किसके लिए

इतना ही नहीं, जब शारीरिक या मानसिक संबल की जरूरत हो
तो भी उनसे उनका थोड़ा साथ मांग लेना चाहती हूं
ताकि उनकी ताकत पाकर मैं फिर से मजबूत हो सकूं
और जीवन में फिर से उत्साह के साथ कार्य कर सकूं

या शायद अपनी तमाम कमजोरियां
उनकी ताकत से पूर्ण कर लेना चाहती हूं
या जीवन का संपूर्ण आनन्द उनके सहयोग से पा लेना चाहती हूं..
और भी कितना ही कुछ....

-कुलीना कुमारी, 9-11-15

No comments:

Post a Comment

Search here...

Follow by Email

Contact Us

Name

Email *

Message *