Monday, 14 November 2016

मेरे मीत, My friend





एक बार और मेरे मीत
आओ कुर्बान हो ले
मैं तुम्हें पा लूं
तू मुझे लूट ले

वादियां भी हसीन है
जवानी भी अंगराइयां ले
आज तन्हाइयां भाए नहीं
ये तेरे लिए जम्हाइयां ले
आज तुम्हें देख मुझे भूख लग रही
तू भी मुझे पी ले...

फिर वो दौर याद आए
जब तुने छुआ और मैं दिवानी हुई
फिर से आज तेरी तमन्ना
मुझे तृप्त कर बहुत प्यासी हुई
मेरे अंग-अंग में लग गई आग
तू मेरे नस-नस में अपना जोश भर दे...

आज लाज-शरम हम ना करेंगे
तेरा प्यार चाहिए तुम्हें प्यार करेंगे
तू भी जमाने से डर नहीं मीत
जिसे जलना ही है, वो तो (कैसे भी) जलते रहेंगे
तू बुद्धू ना बनके रह साजन
मुझसे खेल ले, तू मुझे जीत ले..

-कुलीना कुमारी, 13-11-15

No comments:

Post a Comment

Search here...

Follow by Email

Contact Us

Name

Email *

Message *